तालिबान ने पंजशीर प्रांत पर कब्जे का किया दावा , NRF ने ख़ारिज किया दावा , नॉर्दन अलायंस के चीफ कमांडर सालेह मोहम्मद की मौत

अफगानिस्तान में अमन की आखिरी उम्मीद विद्रोही नेता अहमद मसूद के राज्य पंजशीर से है. इसे लेकर अब अलग अलग तरह के दावे सामने आ रहे हैं. तालिबान ने जहां पंजशीर प्रांत पर भी कब्जा करने की बात कही है. वहीं विद्रोही संगठन नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट यानी NRF ने तालिबान के दावे को गलत बताया है. NRF ने कहा है कि पंजशीर पर ताबिलान के कब्जे की बात गलत है.

एनआरएफ ने कहा है कि अहम चौकियो पर अभी भी हमारे कमांडर तैनात हैं. इसके साथ ही पंजशीर घाटी में अलग अलग जगहों पर भी हमारे लड़ाके तैनात हैं और लड़ाई जारी है. NRF ने उम्मीद जताई है कि अफगानिस्तान के लोग इस लड़ाई को जारी रखेंगे.

पंजशीर से जो ताजा तस्वीरें आ रही हैं, वह बताती हैं कि वहां तालिबान ने अपना कब्जा जमा लिया है. तालिबान ने खुद भी दावा किया है कि उसने पंजशीर को पूरी तरह से जीत लिया है. कुछ तस्वीरें भी आई हैं, इसमें एक में पंजशीर में तालिबान का झंडा लगा हुआ है, वहीं दूसरी में तालिबानी पंजशीर गवर्नर ऑफिस के बाहर खड़े दिख रहे हैं.

हालांकि, अफगान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह के करीबी ने आजतक से बातचीत में कहा है कि तालिबान का दावा झूठा है और रेजिस्टेंस फोर्स पहाड़ियों से पंजशीर का रक्षा कर रही है. दावा किया गया है कि पाकिस्तानी एयरफोर्स भी उनपर हमले कर रही है.

पंजशीर में तालिबान का झंडा

वहीं, तालिबान की तरफ से एक दावा और किया गया है. कहा गया है कि उन्होंने रजिस्टेंस फोर्स (नॉर्दन अलायंस) के चीफ कमांडर सालेह मोहम्मद को भी मार दिया है. तालिबान की तरफ से प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि अफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत को भी पूरी तरह जीत लिया गया है. बता दें कि पंजशीर आखिरी प्रांत था जिसपर तालिबान का कब्जा नहीं था. इससे पहले 15 अगस्त को काबुल पर जीत के साथ तालिबान ने पूरे अफगान पर कब्जा जमा लिया था.

तालिबान के आगे कमजोर पड़ गया था पंजशीर

रविवार रात से ही पंजशीर के लड़ाके कमजोर दिखने लगे थे. रेजिस्टेंस फ्रंट के प्रवक्ता और घाटी में तालिबान से लोहा ले रहे अहमद मसूद के करीबी फहीम दश्ती की भी रविवार को मौत हो गई थी. यह जानकारी भी सामने आई थी कि अफगान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह फिलहाल अज्ञात स्थान पर सुरक्षित हैं. वहीं असद महमूद पिछले तीन दिनों से ताजिकिस्तान में हैं.

कमजोर पड़ने के बाद नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट ऑफ अफगानिस्तान (NRF) ने एक बयान जारी किया था. बयान में तालिबान से सीजफायर करने की मांग की गई थी और युद्ध खत्म कर बातचीत करने को कहा गया था. हालांकि, तालिबान ने सीजफायर का प्रस्ताव ठुकरा दिया है. इसके अलावा पंजशीर पर जो प्रतिबंध लगाए गए हैं, उन्हें हटाकर आम लोगों को राहत देने की अपील हुई थी.

Related posts

Leave a Comment