तालिबान ने किया अपनी नई सरकार का ऐलान, संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित ग्लोबल आतंकी और विवादित बैकग्राउंड वाले चेहरों की भरमार , जानिए किस आतंकी को मिली कौन से जिम्मेदारी

अफगानिस्तान में तालिबान ने अपनी नई सरकार का ऐलान कर दिया है. मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद को अफगानिस्तान का प्रधानमंत्री बनाया गया है. इसके अलावा पूरी कैबिनेट का ऐलान कर दिया गया है. तालिबान की इस पूरी कैबिनेट में कई ऐसे चेहरे शामिल हैं, जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा ग्लोबल आतंकी घोषित हैं या किसी पर अमेरिका ने ईनाम घोषित किया हुआ है. 

ऐसे में अब ये सभी चिन्हित आतंकी एक देश की सरकार को चलाएंगे और पूरे अफगानिस्तान की किस्मत इन सभी के हाथों में टिकी है. यूं तो अफगानिस्तान की नई तालिबान सरकार का हर चेहरा कोई विवादित बैकग्राउंड रखता है, लेकिन जिनपर सबसे ज्यादा नज़र है और विवाद है. उनपर एक नज़र डाल लीजिए…

1.    प्रधानमंत्री मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद
1990 के दशक से ही अफगानिस्तान में बड़ी पहचान रखने वाला मुहम्मद हसन अखुंद तालिबान के शीर्ष नेताओं में एक है और अब नया प्रधानमंत्री भी है. बामियान में भगवान बुद्ध से जुड़ी यादों को तबाह करने वाला मुल्ला मुहम्मद हसन संयुक्त राष्ट्र के ग्लोबल आतंकियों में शामिल है.

2.    उप-प्रधानमंत्री मुल्ला अब्दुल गनी उर्फ मुल्ला बरादर
तालिबान की शुरुआत करने वाले मुल्ला उमर का करीबी मुल्ला बरादर तालिबान का शीर्ष नेता है. बीते 2 दशक से मुल्ला बरादर ने ही तालिबान को एकजुट रखने का काम किया, वह लंबे वक्त तक पाकिस्तान की जेल में भी बंद रहा. जब बाहर आया तो अमेरिका के साथ बातचीत की. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा जारी प्रतिबंधित लिस्ट में मुल्ला बरादर का भी नाम है.

3.    डिप्टी पीएम अब्दुल सलाम हनफी
अफगानिस्तान के नए उपप्रधानमंत्री अब्दुल सलाम हनफी भी संयुक्त राष्ट्र की आतंकी लिस्ट में शामिल है. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, अब्दुल सलाम हनफी ड्रग्स सप्लाई में शामिल है और तालिबान के लिए इसकी पूरी जिम्मेदारी संभालता है. अब्दुल सलाम तालिबान की पिछली सरकार में शिक्षा मंत्री रह चुका है. 

4.    आंतरिक मंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी
तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों के मंत्री बने सिराजुद्दीन हक्कानी ग्लोबल आतंकियों की लिस्ट में शामिल हैं. सिराजुद्दीन हक्कानी नेटवर्क की शुरुआत करने वाले जलालुद्दीन के बेटे हैं. 2016 से ही सिराजुद्दीन तालिबान के प्रमुख नेताओं में शामिल हैं. अमेरिका ने भी सिराजुद्दीन हक्कानी पर 10 मिलियन डॉलर (73 करोड़ रुपये) का ईनाम रखा हुआ है. 

5.    विदेश मंत्री आमिर खान मुतक्की
तालिबान की पिछली सरकार का भी हिस्सा रह चुका आमिर खान मुतक्की एक बार फिर सरकार का हिस्सा बना है. अमेरिका के साथ बातचीत करने वाली टीम में आमिर शामिल रहा था. UNSC की प्रतिबंधित लिस्ट में मुल्ला अखुंद, मुल्ला बरादर के साथ आमिर खान मुतक्की का भी नाम शामिल है. 

6.    रक्षा मंत्री मुल्ला याकूब
तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर का बेटा मुल्ला याकूब अफगानिस्तान का नया रक्षा मंत्री है. मुल्ला उमर तालिबान का प्रमुख कमांडर है जो लड़ाइयों की अगुवाई करता है. कंधार में उसने लंबे वक्त से मोर्चा संभाला है, मुल्ला याकूब भी UNSC की लिस्ट में शामिल है. 

आपको बता दें कि 15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा जमाने वाले तालिबान ने मंगलवार को अपनी अंतरिम सरकार का ऐलान किया. तालिबान ने कुल 33 कैबिनेट मंत्रियों का ऐलान किया है, इनमें प्रधानमंत्री और डिप्टी पीएम भी शामिल हैं. तालिबान ने अपने वादे से उलट किसी महिला को कैबिनेट में जगह नहीं दी है. 

Related posts

Leave a Comment