खो-खो की राष्ट्रीय स्तर खिलाड़ी की हत्या मामले का खुलासा , ऑडियो क्लिप की मदद से आरोपी तक पहुंची पुलिस, फोन पर था दोस्त, सुनी थीं चीखें – अंकल मैं मर जाउंगी, मुझे छोड़ दो

बिजनौर : उत्तर प्रदेश पुलिस ने 24 वर्षीय राष्ट्रीय स्तर की खो-खो खिलाड़ी की कथित तौर पर हत्या करने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। लड़की का शव बिजनौर के एक रेलवे स्टेशन पर मिला था। पुलिस ने पीड़िता के एक दोस्त द्वारा शेयर किए गए ऑडियो क्लिप की मदद से आरोपी को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक, घटना 10 सितंबर की दोपहर करीब 2 बजे की है जब दलित महिला नौकरी के लिए इंटरव्यू देकर घर लौट रही थी। रेलवे स्टेशन पर मजदूरी का काम करने वाले आरोपी शहजाद उर्फ हदीम ने उसे देखा और सीमेंट रेलवे स्लीपरों में खींचकर ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया।

महिला उस समय दोस्त के साथ कॉल पर थी। उसने मदद के लिए चिल्लाने की कोशिश की तो आरोपी ने उसके ही दुपट्टे और रस्सी से उसका गला घोंट दिया। महिला के चुप रहने से पहले उसके दोस्त ने फोन पर मदद के लिए उसकी चीख-पुकार सुन ली। आरोपी महिला को उसी सीमेंट के स्लीपर पर छोड़कर उसका मोबाइल लेकर मौके से फरार हो गया। स्थानीय लोगों ने बाद में उसके शरीर को खून से लथपथ पाया और एक दांत गायब पाया। उसके परिवार का आरोप है कि उसके साथ रेप किया गया। आरोपी ने घर पहुंचने के बाद फोन बंद कर दिया था लेकिन उसकी आखिरी लोकेशन का पता लगाकर पुलिस उसके आवास पर पहुंच गई और उसे दबोच लिया। 

वारदात के समय वह किसी परिचित से फोन पर बात कर रही थी। इस दौरान किसी के दबोचने पर वह चिल्लाई, अंकल मुझे छोड़ दो… मैं मर जाऊंगी… परिचित ने किसी अनहोनी की आशंका पर रिकार्डिंग शुरू कर दी। अनुमान लगाया जा रहा है कि इसके बाद फोन गिर गया लेकिन रिकार्डिंग जारी थी, बिटिया के हत्यारोपियों से किए जा रहे संघर्ष की बातें रिकॉर्ड हुई हैं। घटना के खुलासे में पुलिस के लिए यह रिकार्डिंग और अंकल शब्द काफी अहम कड़ी साबित हो सकते हैं।

यूनिवर्सिटी खिलाड़ी बबली की 10 सितंबर को कर दी गई थी हत्या
पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने पत्रकारों को बताया कि रेलवे स्टेशन के करीब सर्वोदय कॉलोनी की रहने वाली खो खो की इंटर यूनिवर्सिटी खिलाड़ी बबली (24) की 10 सितंबर को हत्या कर दी गयी थी।। उन्होंने बताया कि घटना के दिन बबली दोपहर करीब दो बजे रेलवे स्टेशन के निकट रखे स्लीपर्स के चट्टे के बीच से मोबाइल फोन पर अपने मित्र से बात करते हुए घर जा रही थी। उसी दौरान बबली के मित्र ने फोन पर उसकी चीख सुनी जिसमें वह कह रही थी कि ‘‘अंकल मैं मर जाउंगी, मुझे छोड़ दो।” अधिकारी ने बताया कि बबली के मित्र ने इसकी सूचना खिलाड़ी के पड़ोसी को दी और उसे तलाश करने को भेजा। पड़ोसी को स्लीपर्स के बीच बबली का शव मिला, उसका मोबाइल फोन वहां नहीं मिला। पुलिस अधीक्षक सिंह ने बताया कि बबली के फोन की लोकेशन पास के आदमपुर गांव में मिली। 

आरोपी ने  दुपट्टे से बबली का गला घोंट दिया
उन्होंने बताया कि भौतिक, इलेक्ट्रॉनिक और परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने देर रात करीब ढाई बजे संदिग्ध पल्लेदार आदमपुर निवासी शहजाद उर्फ खादिम को हिरासत में लिया। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान खादिम ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। उसने पुलिस को बताया कि वह गांजा और चरस का नशा करता है। उसे पता था कि बबली रेलवे स्लीपर्स के बीच आती-जाती थी। अधिकारी ने बताया कि 10 सितंबर को खादिम के पास कोई काम नहीं था। उसने नशा किया और बबली का इंतजार करने लगा। बबली के वहां पहुंचने पर आरोपी ने उसे स्लीपर्स के बीच खाली जगह में घसीटा, लेकिन उसके विरोध करने और शोर मचाने पर रस्सी और दुपट्टे से उसका गला घोंट दिया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस को घटना स्थल से शर्ट के दो बटन और एक चप्पल मिली थी। पुलिस ने खादिम को गिरफ्तार करने के बाद उसके आवास से उसकी शर्ट, एक चप्पल और रस्सी बरामद कर ली है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने पहले दर्ज प्राथमिकी में बलात्कार के प्रयास की धारा भी जोड़ दी है। सिंह ने कहा कि पुलिस खादिम को स्थानीय अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए उसे पुलिस हिरासत में देने की मांग करेगी। 

Related posts

Leave a Comment