उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को दिया बड़ा झटका, मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव को अपने खेमे में लेने के बाद अब मुलायम के साढू और कांग्रेस की पोस्टर गर्ल को भी बीजेपी में कराया शामिल , पढ़िए पूरी रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव  से पहले बीजेपी ने कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को बड़ा झटका दिया है. अब मुलायम सिंह यादव के साढ़ू प्रमोद गुप्ता और कांग्रेस की पोस्टर गर्ल बनीं प्रियंका मौर्य ने बीजेपी ज्वाइन कर ली है. इससे पहले मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव ने बीजेपी का दामन थामा था.

इन दोनों के अलावा रिटायर्ड प्रशासनिक अधिकारी किशन सिंह अटोरिया, लोक गायिका वंदना मिश्रा, सपा के एटा के युवा नेता मनोज मोंटू, सपा नेता अजीत सिंह चौहान ने भी आज बीजेपी का दामन थामा है.

बीजेपी में आने से पहले प्रमोद गुप्ता ने बड़ा बयान भी दिया है. उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने मुलायम सिंह यादव को बंदी बनाया हुआ है. पार्टी में आज उनकी बुरी स्थिति है. गुप्ता ने यह भी कहा कि सपा में आज अपराधियों और जुआरियों को लाया जा रहा है.

इतना ही नहीं कांग्रेस की पोस्टर गर्ल बनीं प्रियंका मौर्य ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया है. प्रियंका मौर्य कांग्रेस की मुहिम ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ की पोस्टर गर्ल हैं. उन्होंने आरोप लगाया था कि प्रियंका गांधी के सचिव ने टिकट के लिए उनसे पैसे मांगे थे.

क्यों नाराज थे प्रमोद गुप्ता

प्रमोद गुप्ता मुलायम की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता के रिश्तेदार हैं. 2007 में प्रमोद कुमार गुप्ता समाजवादी पार्टी से विधूना विधानसभा से विधायक चुने गए थे. विधूना के मौजूदा विधायक विनय शाक्य ने पिछले दिनों सपा का दामन थामा है, जिसपर प्रमोद गुप्ता ने सवाल उठाए थे. प्रमोद गुप्ता मुलायम सिंह यादव के साथ-साथ शिवपाल यादल के भी बेहद करीबी हैं.

प्रमोद गुप्ता ने यह भी आरोप लगाया था कि अखिलेश मुलायम संग अच्छा बर्ताव नहीं कर रहे. कहा था कि अखिलेश मुलायम को कार्यालय में अपने साथ ले जाते और अपने साथ ले आते हैं. दावा किया गया कि मुलायम का माइक तक छीन लिया गया था.

बता दें कि बीजेपी और सपा में चुनाव से पहले ही शह और मात का खेल जारी है. सपा ने बीजेपी का दामन छोड़कर आए स्वामी प्रसाद मौर्य को जगह दी. कुछ अन्य विधायकों ने भी बीजेपी छोड़कर सपा का दामन थामा था. इसके बाद बुधवार को अपर्णा यादव को बीजेपी में लाया गया. हालांकि, उन्होंने अखिलेश या सपा के खिलाफ कुछ नहीं कहा. अपर्णा सिर्फ यह बोलीं कि उन्हें पीएम मोदी और सीएम योगी की कार्यशैली प्रभावित करती है.

Related posts

Leave a Comment