दिग्विजय सिहं के बयान से फिर मचा बबाल कहाँ की काग्रेंस सरकार आई तो फिर 370 लागू करेगे मुख्यमंत्री शिवराज सिहं चौहान का पलटवार काग्रेंस का हाथ पाकिस्तान के साथ सिधिंया बोले कोई आश्चर्य नही

भोपाल
जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने की बात पर मध्यप्रदेश में राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस के सीनियर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार आने पर जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 फिर से लाएंगे। दावा यह भी किया जा रहा है कि इस चैट में एक पाकिस्तानी पत्रकार भी मौजूद था। इस पर भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी सोशल मीडिया पर दिग्विजय सिंह को टैग करते हुए लिखा कि कांग्रेस आज भी पाकिस्तान का पक्ष लेने से नहीं चूकती। कांग्रेस की नीति और सत्य! मुझे आश्चर्य नहीं हुआ

यह कहा था दिग्विजय ने

क्लब हाउस पर चैट के दौरान दिग्विजय ने कहा कि मुस्लिम बहुल राज्य में एक हिंदू राजा था। दोनों ने साथ काम किया। दरअसल, कश्मीर में सरकारी सेवाओं में कश्मीरी पंडितों को आरक्षण दिया गया था इसलिए अनुच्छेद-370 को रद्द करना और जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा कम करना अत्यंत दुखद निर्णय है। हमें निश्चित रूप से इस मुद्दे पर फिर से विचार करना होगा। इसे फिर से लाएंगे।

कांग्रेस फिर से पाकिस्तान की भाषा बोलने लगी है: शिवराज सिंह

दिग्विजय के इस ऑडियो को लेकर BJP ने जमकर उनका विरोध किया है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, कश्मीर देश का मुकुट है। ये कांग्रेस ही थी, जिसने कश्मीर में आर्टिकल 370 लगाने का पाप किया था। हमारे प्रधानमंत्री और भाजपा ने इसे हटा दिया। एक देश में दो विधान, दो निशान और दो प्रधान नहीं है

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस फिर से पाकिस्तान की भाषा बोलने लगी है। कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह कहते हैं कि कश्मीर में आर्टिकल 370 पर पुनर्विचार किया जाएगा। फिर इसे थोपकर अलगाववाद को बढ़ावा देगी। आतंकवाद को प्रश्रय देगी। कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ है। यह कांग्रेस की मानसिकता है। जो पाकिस्तान कहता है वह कांग्रेस कहती है। सोनिया जी जवाब दो देश जवाब मांगता है।

वहीं, BJP के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह की गतिविधियों की NIA जांच होनी चाहिए। जांच की मांग को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पत्र लिखेंगे। दिग्विजय सिंह के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड की जांच होनी चाहिए

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने दिग्विजय के इस बयान को देश के साथ गद्दारी बताया है। सारंग ने कहा, दिग्विजय ने जिस प्रकार से क्लब हाउस में पाकिस्तान के पत्रकारों के बीच में आर्टिकल 370 के बारे में जो टिप्पणी की है वह देशद्रोह की श्रेणी में आता है।

कश्मीर भारत का था, है और रहेगा

सारंग ने कहा कि दिग्विजय और कांग्रेस के नेता भारत को अंतरराष्ट्रीय मंच पर बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। दिग्विजय को कहना चाहता हूं कि कश्मीर भारत का था, है और भारत का ही रहेगा। दिग्विजय जैसे कितने ही नेता जन्म ले लें, कश्मीर में आर्टिकल 370 वापस नहीं लगाई जाएगी। दिग्विजय और कांग्रेस को अल्टीमेटम देता हूं यदि इस देश को तोड़ने की कोशिश की जाएगी तो उन्हें बख्शा नहीं जाएगा

2019 में जम्मू-कश्मीर से हटाई गई आर्टिकल 370

अगस्त 2019 को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को खत्म कर दिया था और जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग कर शासित राज्य बना दिया था

Related posts

Leave a Comment