आगरा में सबसे बड़ी जालसाजी का मामला आया सामने , सरकार को लगाया 100 करोड़ का चूना, बेहद शातिर आरोपी नितिन वर्मा ने बनाई थी 125 फर्जी फर्म, पढ़िए पूरा मामला

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में जालसाजी का एक बड़ा मामला सामने आया है. जहां सीजीएसटी टीम ने एक ऐसे शातिर जालसाज को गिरफ्तार किया है, जिसने सरकार को एक दो करोड़ नहीं बल्कि सीधे 100 करोड़ रुपये का चूना लगा दिया. ये काम उसने फर्जी फर्म बनाकर टैक्स चोरी के जरिए किया.

आरोपी की पहचान नितिन वर्मा के तौर पर हुई है. जिसे आगरा की आवास विकास कॉलोनी के सेक्टर-7 से गिरफ्तार किया गया है. आरोपी जालसाज नितिन वर्मा ने पहले 126 फर्जी फर्म बनाकर करीब 700 करोड़ रुपये का कारोबार किया और फिर टैक्स चोरी करके सरकार को 100 करोड़ से ज्यादा का चूना लगा दिया. शातिर नितिन वर्मा लोगों के फर्जी पैन कार्ड और आधार कार्ड का इस्तेमाल करके फर्जी फर्म बनाता था. फिर उनका रजिस्ट्रेशन करवाता था और धोखाधड़ी की वारदातों को अंजाम देता था.

नितिन वर्मा करीब 2 साल से यह फर्जीवाड़ा कर रहा था और अधिकारी 2 साल से ही आरोपी की तलाश में जुटे हुए थे. देर शाम सीजीएसटी टीम को जानकारी मिली कि आरोपी नितिन वर्मा आवास विकास कॉलोनी में अपने घर पर मौजूद है. सीजीएसटी और पुलिस ने टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपी के घर दबिश दी और उसे धर दबोचा. इसके बाद सीजीएसटी टीम ने कार्रवाई अदालती कार्रवाई करते हुए आरोपी नितिन वर्मा को जेल भिजवा दिया है. आरोपी के बैंक खातों को फ्रीज कर दिया गया है.

सीजीएसटी विभाग ने आरोपी से रिकवरी की कवायद भी शुरू कर दी है. सीजीएसटी टीम के अधीक्षक आरडी सिंह ने बताया कि नितिन वर्मा के साथ कई और लोग भी इस फर्जीवाड़े में शामिल हैं. आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं. जो भी व्यक्ति इस फर्जीवाड़े में शामिल होगा. उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. उनके बैंक खातों को फ्रीज किया जाएगा. फर्जी फर्म बनाकर 700 करोड़ से ज्यादा का कारोबार करने वाला नितिन वर्मा बेहद शातिर है.

आरडी सिंह के अनुसार 100 करोड़ से ज्यादा की टैक्स चोरी करने वाला नितिन वर्मा रईसों की जिंदगी जी रहा था. वो विदेशों का सफर कर रहा था. राजनेताओ और मीडिया कर्मियों के बीच नितिन वर्मा ने पैठ बना ली थी. चर्चा ये भी है कि नितिन वर्मा ने काली कमाई से कई बेनामी संपत्तियां भी खरीदी हैं. नितिन कितना शातिर है इसका अंदाजा उसकी फेसबुक प्रोफाइल पर अपलोड की गई फोटोज को देखकर लगाया जा सकता है.

एक फोटो में नितिन वर्मा खुद को समाजवादी पार्टी का समर्थक बता रहा है तो दूसरी तस्वीर में खुद को भगवाधारी बता रहा है. अपनी कई पोस्ट में नितिन वर्मा ने आम आदमी पार्टी का भी समर्थन किया है. कुल मिलाकर ये कहना गलत नहीं होगा कि खुद को बचाने के लिए नितिन वर्मा ने कई पैतरे अपनाए लेकिन सीजीएसटी टीम से खुद को बचा नहीं पाया .आरोपी नितिन वर्मा अब जेल की सलाखों के पीछे पहुंच चुका है.

Related posts

Leave a Comment